पालक दाल / पालक के साथ दाल / पालक के साथ लाल चना दाल / गुंगो पास के साथ पालक / पालक के साथ पिगेन पिया दाल / पालक के साथ स्वस्थ दाल करी paalak daal / paalak ke saath daal / paalak ke saath laal chana daal / gungo paas ke saath paalak / paalak ke saath pigen piya daal / paalak ke saath svasth daal karee

अवयव | avayav:
  • रेडग्राम / अरहर / गुंगो मटर - 2 कप | redagraam / arahar / gungo matar - 2 kap
  • पालक - 200 ग्राम | paalak - 200 graam
  • सरसों के बीज - 1 चम्मच | sarason ke beej - 1 chammach
  • जीरा - 1 चम्मच | jeera - 1 chammach
  • लहसुन की कलियाँ - 2 | lahasun kee kaliyaan - 2
  • तेल - 2 चम्मच | tel - 2 chammach
  • हल्दी - 1 चम्मच | haldee - 1 chammach
  • नमक स्वादानुसार या 1 चम्मच | namak svaadaanusaar ya 1 chammach
  • मिर्च पाउडर- 2 चम्मच | mirch paudar- 2 chammach
  • इमली - 10 ग्राम | imalee - 10 graam
  • करी पत्ता थोड़ा सा | karee patta thoda sa
  • धनिया पत्ती थोड़ी सी | dhaniya pattee thodee see
  • पानी - 5 कप | paanee - 5 kap
 
- सबसे पहले इमली को एक कप पानी में भिगो दें. फिर लाल चना / अरहर / गुंगो मटर लें और उन्हें अच्छे से धोकर एक तरफ रख दें। - अब पालक लें और उसे अच्छे से धोकर काट लें. छोटे टुकड़ों में। एक प्याज को भी टुकड़ों में काट लेना चाहिए. - अब एक कुकर लें और उसमें दाल, पालक, प्याज के टुकड़े डालें और 4 कप पानी डालें और कुकर को ढक दें. - स्टोव चालू करें और कुकर को तेज आंच पर रखें. 3 सीटी आने के बाद गैस बंद कर दें और कुकर को बाहर निकाल कर ठंडा होने के लिए रख दें. कुकर ठंडा होने के बाद फिर से चूल्हा जलाएं और ढक्कन हटाकर कुकर को मध्यम आंच पर रख दें. - दाल में नमक और काली मिर्च डालकर अच्छी तरह मिला लें. दूसरा चूल्हा जलाएं और एक छोटा तड़का पैन रखकर गर्म करें और तेल डालें. तेल गरम करें और उसमें राई, जीरा, कसा हुआ करी पत्ता, मसला हुआ लहसुन डालें और अच्छी तरह से भूनें। जब कच्ची महक चली जाए तो गैस बंद कर दीजिए और दाल में तड़का डाल दीजिए. - दाल गाढ़ी होने से पहले इमली का रस निकाल लें और दाल में डालकर अच्छी तरह मिला लें. करी के गाढ़ा होने तक पकाएं. - कढ़ी निकालने से पहले इसमें धुला और कटा हुआ हरा धनिया डालें और परोसें. इस करी के साथ चावल/चपाती/पुलखा एक बेहतरीन संयोजन है। यह दाल और पालक की सब्जी बहुत स्वास्थ्यवर्धक भी है
- sabase pahale imalee ko ek kap paanee mein bhigo den. phir laal chana / arahar / gungo matar len aur unhen achchhe se dhokar ek taraph rakh den. - ab paalak len aur use achchhe se dhokar kaat len. chhote tukadon mein. ek pyaaj ko bhee tukadon mein kaat lena chaahie. - ab ek kukar len aur usamen daal, paalak, pyaaj ke tukade daalen aur 4 kap paanee daalen aur kukar ko dhak den. - stov chaaloo karen aur kukar ko tej aanch par rakhen. 3 seetee aane ke baad gais band kar den aur kukar ko baahar nikaal kar thanda hone ke lie rakh den. kukar thanda hone ke baad phir se choolha jalaen aur dhakkan hataakar kukar ko madhyam aanch par rakh den. - daal mein namak aur kaalee mirch daalakar achchhee tarah mila len. doosara choolha jalaen aur ek chhota tadaka pain rakhakar garm karen aur tel daalen. tel garam karen aur usamen raee, jeera, kasa hua karee patta, masala hua lahasun daalen aur achchhee tarah se bhoonen. jab kachchee mahak chalee jae to gais band kar deejie aur daal mein tadaka daal deejie. - daal gaadhee hone se pahale imalee ka ras nikaal len aur daal mein daalakar achchhee tarah mila len. karee ke gaadha hone tak pakaen. - kadhee nikaalane se pahale isamen dhula aur kata hua hara dhaniya daalen aur parosen. is karee ke saath chaaval/chapaatee/pulakha ek behatareen sanyojan hai. yah daal aur paalak kee sabjee bahut svaasthyavardhak bhee hai.

Comments