घर पर मिनपा गरेलू रेसिपी | मिनपा वड़ा बनाने की विधि | मिनपा गरेलू बनाने की विधि | मेदु वड़ा रेसिपी | उड़द दाल के साथ नाश्ता वड़ा रेसिपी | वड़ा कैसे बनाये | गरेलू कैसे बनाएं | उड़द दाल के साथ वड़ा नाश्ता ghar par minapa gareloo resipee | minapa vada banaane kee vidhi | minapa gareloo banaane kee vidhi | medu vada resipee | udad daal ke saath naashta vada resipee | vada kaise banaaye | gareloo kaise banaen | udad daal ke saath vada naashta

आवश्यक सामग्री | aavashyak saamagree:
  • उड़द दाल - 2 गिलास | udad daal - 2 gilaas
  • प्याज - 1 | pyaaj - 1
  • थोड़े से धनिये के पत्ते | thode se dhaniye ke patte
  • अदरक - 100 ग्राम | adarak - 100 graam
  • हरी मिर्च - 2 | haree mirch - 2
  • नमक के साथ चखें | namak ke saath chakhen
  • डीप फ्राई करने के लिए तेल | deep phraee karane ke lie tel
 
सबसे पहले उड़द दाल लें और उसे अच्छे से धोकर 6-8 घंटे के लिए पानी में भिगो दें. फिर इसे पानी से अच्छे से धोकर अलग रख लें। - अब अदरक को हल्का सा धो लीजिए और अदरक और हरी मिर्च को मिक्सिंग जार में डाल दीजिए और इसमें उड़द की दाल डाल दीजिए. थोड़ा सा नमक डालकर अच्छे से पीस लीजिए. अगर आप वड़ा बैटर बनाने के लिए ग्राइंडर का इस्तेमाल कर रहे हैं तो पानी बिल्कुल न डालें. अगर आप मिक्सर/मिक्सी का उपयोग कर रहे हैं तो इसमें 2-3 चम्मच पानी डालकर आटा/बैटर नरम कर लीजिये. - अब आटे को उठाकर एक बाउल में रखें और ढककर फ्रिज में रख दें. जिन लोगों को वड़ा क्रिस्पी चाहिए उन्हें एक दिन पहले ही बैटर तैयार करके फ्रिज में रख देना चाहिए. बैटर/वड़ा बनाने से एक घंटा पहले बैटर को फ्रिज से निकाल कर रख लीजिये. ऐसा करने से वड़ा/गरेलू ज्यादा तेल नहीं सोखेगा.
sabase pahale udad daal len aur use achchhe se dhokar 6-8 ghante ke lie paanee mein bhigo den. phir ise paanee se achchhe se dhokar alag rakh len. - ab adarak ko halka sa dho leejie aur adarak aur haree mirch ko miksing jaar mein daal deejie aur isamen udad kee daal daal deejie. thoda sa namak daalakar achchhe se pees leejie. agar aap vada baitar banaane ke lie graindar ka istemaal kar rahe hain to paanee bilkul na daalen. agar aap miksar/miksee ka upayog kar rahe hain to isamen 2-3 chammach paanee daalakar aata/baitar naram kar leejiye. - ab aate ko uthaakar ek baul mein rakhen aur dhakakar phrij mein rakh den. jin logon ko vada krispee chaahie unhen ek din pahale hee baitar taiyaar karake phrij mein rakh dena chaahie. baitar/vada banaane se ek ghanta pahale baitar ko phrij se nikaal kar rakh leejiye. aisa karane se vada/gareloo jyaada tel nahin sokhega.
    
गरालू/बड़ा बनाने से पहले एक प्याज बारीक काट लेना चाहिए. इसमें थोड़ा सा हरा धनिया और प्याज के टुकड़े डालकर आटे को अच्छी तरह मिला लीजिए.
garaaloo/bada banaane se pahale ek pyaaj baareek kaat lena chaahie. isamen thoda sa hara dhaniya aur pyaaj ke tukade daalakar aate ko achchhee tarah mila leejie.
- अब चूल्हा जलाएं और उसमें एक पैन रखकर तेज आंच पर तेल डालकर गर्म करें. जब यह पर्याप्त गर्म हो जाए या अगर वड़ा जला हुआ लगे तो इसे मध्यम आंच पर कर देना चाहिए। अगर आपको लगे कि तेल ज़्यादा गरम हो गया है तो आंच को तेज़ से मध्यम कर दें। लेकिन वड़ा को तेज आंच पर पकाना है, ताकि वह अंदर तक अच्छे से पक जाए क्योंकि हम बीच में छेद कर रहे हैं. यदि आप अपने हाथ का उपयोग कर सकते हैं, जैसा कि ऊपर चित्र में दिखाया गया है, तो थोड़ा सा आटा लें और इसे इस तरह पतला कर लें, बीच में एक छेद करें और इसे तेल में डाल दें। जिन लोगों को हाथ से आटा गूंथने की आदत नहीं है, उन्हें एक पॉलिथीन कवर (या केले का पत्ता) लेना चाहिए और उस पर थोड़ा तेल लगाना चाहिए, थोड़ा सा आटा/आटा लेना चाहिए, इसे एक गेंद में रोल करना चाहिए, इसे कवर या केले के पत्ते पर रखना चाहिए और धीरे से दबाना चाहिए। , बीच में एक छेद करें और इसे तेल में डाल दें। अब रंग बदलकर लाल हो जाता है. एक तरफ से सिकने के बाद इसे पलट कर दूसरी तरफ से भी तल लीजिए. - इसके बाद बहुत ही स्वादिष्ट गरेलू/बड़ा बनकर तैयार है.
- ab choolha jalaen aur usamen ek pain rakhakar tej aanch par tel daalakar garm karen. jab yah paryaapt garm ho jae ya agar vada jala hua lage to ise madhyam aanch par kar dena chaahie. agar aapako lage ki tel zyaada garam ho gaya hai to aanch ko tez se madhyam kar den. lekin vada ko tej aanch par pakaana hai, taaki vah andar tak achchhe se pak jae kyonki ham beech mein chhed kar rahe hain. yadi aap apane haath ka upayog kar sakate hain, jaisa ki oopar chitr mein dikhaaya gaya hai, to thoda sa aata len aur ise is tarah patala kar len, beech mein ek chhed karen aur ise tel mein daal den. jin logon ko haath se aata goonthane kee aadat nahin hai, unhen ek politheen kavar (ya kele ka patta) lena chaahie aur us par thoda tel lagaana chaahie, thoda sa aata/aata lena chaahie, ise ek gend mein rol karana chaahie, ise kavar ya kele ke patte par rakhana chaahie aur dheere se dabaana chaahie. , beech mein ek chhed karen aur ise tel mein daal den. ab rang badalakar laal ho jaata hai. ek taraph se sikane ke baad ise palat kar doosaree taraph se bhee tal leejie. - isake baad bahut hee svaadisht gareloo/bada banakar taiyaar hai.

Comments