गोंगुरा पचड़ी | सोरेल के पत्तों की चटनी | गोंगुरा अचार रेसिपी gongura pachadee | sorel ke patton kee chatanee | gongura achaar resipee ​

आवश्यक सामग्री | aavashyak saamagree:
  • गोंगुरा/सोरेल की पत्तियाँ - 250 ग्राम | gongura/sorel kee pattiyaan - 250 graam
  • हरी मिर्च - 2 | haree mirch - 2
  • धनिया - 3 चम्मच | dhaniya - 3 chammach
  • मेथी - 1/2 छोटी चम्मच | methee - 1/2 chhotee chammach
  • सूखी लाल मिर्च - 10 | sookhee laal mirch - 10
  • जीरा - 2 चम्मच | jeera - 2 chammach
  • तिल के बीज - 2 चम्मच (वैकल्पिक) | til ke beej - 2 chammach (vaikalpik)
  • लहसुन की कोपलें - 10 | lahasun kee kopalen - 10
  • नमक स्वाद अनुसार | namak svaad anusaar
  • थोड़ा सा करी पाउडर | thoda sa karee paudar
  • तेल - 2 चम्मच | tel - 2 chammach
  • बंगाल चना/चना दाल - 1 छोटा चम्मच | bangaal chana/chana daal - 1 chhota chammach
  • प्याज - 1 (वैकल्पिक) | pyaaj - 1 (vaikalpik)
  
- सबसे पहले गोंगुरा को अच्छे से धो लें, पत्ते हटा दें और एक तरफ रख दें. - इसी बीच एक पैन लें और स्टोव जलाकर उसे गर्म कर लें. - गर्म होने के बाद इसमें धनिया के बीज और मेथी डालकर भूनें. - तलने के बाद इसे एक प्लेट में निकाल कर अलग रख लें. - अब सूखी मिर्चों को 2 मिनिट तक भून लीजिए और अलग रख दीजिए. - मिर्च को निकाल कर प्लेट में रख लीजिये. इन्हें ज्यादा देर तक न तलें क्योंकि ये जल्दी काले हो जाएंगे. - अब उसी पैन में जीरा भून लें. आप चाहें तो इसमें तिल भूनकर भी डाल सकते हैं. तिल खाने से कैल्शियम अच्छा रहता है। जिन लोगों को तिल पसंद नहीं है उन्हें ऐसे ही खिलाना चाहिए. इसके अलावा, गोंगुरा/सोरेल की पत्तियां बहुत खट्टी होती हैं। तिल डालने से खटास थोड़ी कम हो जाएगी. अगर आपको यह पसंद नहीं है तो तिल न डालें. - भूनने के बाद जीरा और तिल को निकाल कर अलग रख लीजिए और ठंडा होने दीजिए. - अब एक कढ़ाई में गोंगुरा/सोरल के पत्ते और हरी मिर्च डालकर भूनें. गोंगुरा/सोरेल की पत्तियों से पानी आता है और बहुत कम हो जाता है। जब पानी कम हो जाए और पत्तियां नरम हो जाएं तो उन्हें बाहर निकालें और ठंडा होने दें।
- sabase pahale gongura ko achchhe se dho len, patte hata den aur ek taraph rakh den. - isee beech ek pain len aur stov jalaakar use garm kar len. - garm hone ke baad isamen dhaniya ke beej aur methee daalakar bhoonen. - talane ke baad ise ek plet mein nikaal kar alag rakh len. - ab sookhee mirchon ko 2 minit tak bhoon leejie aur alag rakh deejie. - mirch ko nikaal kar plet mein rakh leejiye. inhen jyaada der tak na talen kyonki ye jaldee kaale ho jaenge. - ab usee pain mein jeera bhoon len. aap chaahen to isamen til bhoonakar bhee daal sakate hain. til khaane se kailshiyam achchha rahata hai. jin logon ko til pasand nahin hai unhen aise hee khilaana chaahie. isake alaava, gongura/sorel kee pattiyaan bahut khattee hotee hain. til daalane se khataas thodee kam ho jaegee. agar aapako yah pasand nahin hai to til na daalen. - bhoonane ke baad jeera aur til ko nikaal kar alag rakh leejie aur thanda hone deejie. - ab ek kadhaee mein gongura/soral ke patte aur haree mirch daalakar bhoonen. gongura/sorel kee pattiyon se paanee aata hai aur bahut kam ho jaata hai. jab paanee kam ho jae aur pattiyaan naram ho jaen to unhen baahar nikaalen aur thanda hone den.
 
इस बीच, एक मिक्सिंग जार लें और इसमें हरा धनिया, मेथी दाना, सूखी मिर्च, जीरा, तिल और लहसुन की कलियां/टहनी (8) जो पहले तली हुई थीं, डालें और बारीक पीस लें। ध्यान रखें कि गर्म पीसने पर ये नरम न हो जाएं. - इसके बाद इसमें गोंगुरा/सोरेल, हरी मिर्च और स्वादानुसार पर्याप्त नमक डालकर एक बार मिला लें. अगर आपको यह बहुत चिकना पसंद है तो इसे दो बार पीस लें।
is beech, ek miksing jaar len aur isamen hara dhaniya, methee daana, sookhee mirch, jeera, til aur lahasun kee kaliyaan/tahanee (8) jo pahale talee huee theen, daalen aur baareek pees len. dhyaan rakhen ki garm peesane par ye naram na ho jaen. - isake baad isamen gongura/sorel, haree mirch aur svaadaanusaar paryaapt namak daalakar ek baar mila len. agar aapako yah bahut chikana pasand hai to ise do baar pees len.
  
- अब गैस पर एक कढ़ाई चढ़ाएं और उसमें तेल डालकर गर्म करें. तेल गरम होने पर इसमें जीरा, करी पत्ता और चना दाल डालकर भून लीजिए. इसमें दो लहसुन की कलियां/अंकुर भी पीसकर डाल देनी चाहिए. इससे अच्छी खुशबू आ रही है। - अब कटोरे में गोंगुरा/सोरेल की पत्तियों का पेस्ट डालें और अच्छी तरह मिलाएँ। - इसे उतारकर ठंडा होने पर इसमें बारीक कटे प्याज के टुकड़े डालें और अच्छी तरह मिला लें. इसके बाद जब हम इसे खाएंगे तो मुंह में पानी आ जाएगा. इसका स्वाद अच्छा और खुशबूदार होता है. यदि आप गर्म उबले चावल में थोड़ा घी मिलाते हैं और गोंगुरा पचड़ी/सॉरेल पत्तियों का पेस्ट मिलाते हैं, तो यह बहुत अच्छा है। अवश्य तैयार करें और बताएं कि यह कैसी है।
- ab gais par ek kadhaee chadhaen aur usamen tel daalakar garm karen. tel garam hone par isamen jeera, karee patta aur chana daal daalakar bhoon leejie. isamen do lahasun kee kaliyaan/ankur bhee peesakar daal denee chaahie. isase achchhee khushaboo aa rahee hai. - ab katore mein gongura/sorel kee pattiyon ka pest daalen aur achchhee tarah milaen. - ise utaarakar thanda hone par isamen baareek kate pyaaj ke tukade daalen aur achchhee tarah mila len. isake baad jab ham ise khaenge to munh mein paanee aa jaega. isaka svaad achchha aur khushaboodaar hota hai. yadi aap garm ubale chaaval mein thoda ghee milaate hain aur gongura pachadee/sorel pattiyon ka pest milaate hain, to yah bahut achchha hai. avashy taiyaar karen aur bataen ki yah kaisee hai.

Comments