कम सामग्री के साथ सरल और आसान करी | डोंडाकाया करी कैसे बनाएं | डोंडाकाया के साथ इस करी को ट्राई करें | आइवी लौकी करी कैसे बनाएं | बहुत स्वादिष्ट आइवी लौकी करी रेसिपी | टिंडोरा करी | वीजी कोकिनिया करी | खीरा के साथ करी तैयार करें kam saamagree ke saath saral aur aasaan karee | dondaakaaya karee kaise banaen | dondaakaaya ke saath is karee ko traee karen | aaivee laukee karee kaise banaen | bahut svaadisht aaivee laukee karee resipee | tindora karee | veejee kokiniya karee | kheera ke saath karee taiyaar karen

आवश्यक सामग्री | aavashyak saamagree:
  • टिंडोरा / आइवी लौकी / वेज कोकिनिया / कोकिनिया / खीरा - 250 ग्राम | tindora / aaivee laukee / vej kokiniya / kokiniya / kheera - 250 graam
  • ताजा नारियल - 60 ग्राम | taaja naariyal - 60 graam
  • प्याज - 1 | pyaaj - 1
  • मूंगफली - 30 ग्राम | moongaphalee - 30 graam
  • बंगाल ग्राम/चना दाल - 2 चम्मच | bangaal graam/chana daal - 2 chammach
  • सरसों के बीज - 1 चम्मच | sarason ke beej - 1 chammach
  • जीरा - 1 चम्मच | jeera - 1 chammach
  • तेल - 2 चम्मच | tel - 2 chammach
  • हल्दी - 1 चम्मच | haldee - 1 chammach
  • कुछ करी पत्ते | kuchh karee patte
  • थोड़े से धनिये के पत्ते | thode se dhaniye ke patte
  • लाल मिर्च/सूखी लाल मिर्च - 3 | laal mirch/sookhee laal mirch - 3
  • नमक स्वाद अनुसार | namak svaad anusaar
  • मिर्च पाउडर - 2 चम्मच | mirch paudar - 2 chammach
सबसे पहले आइए जानें कि हम आइवी लौकी का उपयोग क्यों कर रहे हैं और इसमें मौजूद तत्व हमें स्वस्थ रहने में कैसे मदद करते हैं। आइवी लौकी पाचन को आसान बनाती है। इसमें फाइबर होता है जो पाचन में सहायता करता है। इस प्रकार यह सब्जी मल में रूक्ष पदार्थ जोड़ती है और बल्क निष्कासन को सुचारू बनाती है। आइवी लौकी गैस्ट्रो-आंत्र विकारों जैसे कब्ज, अल्सर और बीमारी को भी ठीक करती है। आइवी लौकी को कई बीमारियों का इलाज करते हुए दिखाया गया है। आइवी लौकी के एंटीऑक्सीडेंट गुण उम्र बढ़ने और अन्य अपक्षयी बीमारियों के लिए जिम्मेदार हैं। आइवी लौकी का उपयोग बुखार, अस्थमा, पीलिया, कुष्ठ रोग की रोकथाम और आंत्र समस्या के समाधान के लिए किया जाता है। मधुमेह, सूजाक के लिए लोग आइवी लौकी का सेवन करते हैं। आइवी लौकी पोटेशियम का एक समृद्ध स्रोत है। यह खनिज रक्त प्रवाह को नियंत्रित करके और हृदय रोगों को रोककर हृदय के सर्वोत्तम स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है।
sabase pahale aaie jaanen ki ham aaivee laukee ka upayog kyon kar rahe hain aur isamen maujood tatv hamen svasth rahane mein kaise madad karate hain. aaivee laukee paachan ko aasaan banaatee hai. isamen phaibar hota hai jo paachan mein sahaayata karata hai. is prakaar yah sabjee mal mein rooksh padaarth jodatee hai aur balk nishkaasan ko suchaaroo banaatee hai. aaivee laukee gaistro-aantr vikaaron jaise kabj, alsar aur beemaaree ko bhee theek karatee hai. aaivee laukee ko kaee beemaariyon ka ilaaj karate hue dikhaaya gaya hai. aaivee laukee ke enteeokseedent gun umr badhane aur any apakshayee beemaariyon ke lie jimmedaar hain. aaivee laukee ka upayog bukhaar, asthama, peeliya, kushth rog kee rokathaam aur aantr samasya ke samaadhaan ke lie kiya jaata hai. madhumeh, soojaak ke lie log aaivee laukee ka sevan karate hain. aaivee laukee poteshiyam ka ek samrddh srot hai. yah khanij rakt pravaah ko niyantrit karake aur hrday rogon ko rokakar hrday ke sarvottam svaasthy ke lie aavashyak hai.
- सबसे पहले चूल्हा जलाएं और उसमें एक पैन रखें और उसमें तेल गर्म करें. - अब इसमें राई और जीरा डालकर भूनें. - फिर इसमें बारीक कटा प्याज डालकर अच्छे से भून लें. - अब टिंडोरा/आइवी लौकी/डोंडाकाया को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें. - प्याज में टिंडोरा के टुकड़े डालकर अच्छी तरह भून लें.
- sabase pahale choolha jalaen aur usamen ek pain rakhen aur usamen tel garm karen. - ab isamen raee aur jeera daalakar bhoonen. - phir isamen baareek kata pyaaj daalakar achchhe se bhoon len. - ab tindora/aaivee laukee/dondaakaaya ko chhote-chhote tukadon mein kaat len. - pyaaj mein tindora ke tukade daalakar achchhee tarah bhoon len.
  
- अब एक दूसरा पैन रखें और उसमें थोड़ा सा तेल डालें और गर्म होने के बाद चना दाल/चना दाल और मूंगफली/मूंगफली डालें और अच्छे से भून लें. अगर यह अच्छे से फ्राई हो जाए तो इसे निकाल कर अलग रख लें. - ताजे नारियल के टुकड़े और सूखी लाल मिर्च को मिक्सी जार में डालकर पतला पेस्ट/पाउडर की तरह पीस लें. - टिंडोरा के टुकड़े अच्छे से भुन जाने पर इसमें थोड़ा सा नमक, मिर्च पाउडर और हल्दी डालकर भून लीजिए. - अब इसमें कुछ करी पत्ते डालकर अच्छे से भून लें. अंत में नारियल पाउडर डालें और अच्छी तरह मिलाएँ। नारियल डालने के बाद सब्जी में नमक पर्याप्त नहीं रह जायेगा. अगर नमक पर्याप्त नहीं है तो अपने स्वाद के अनुसार थोड़ा और नमक डालें। - इसके बाद करी में भुनी हुई चना दाल और मूंगफली के दाने डालकर अच्छी तरह मिला लें. अंत में धनिये की पत्तियों से गार्निश करें. - इसके बाद बहुत ही स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक डोंडाकाया करी/आइवी लौकी करी तैयार है. सुनिश्चित करें कि आपने इसे तैयार कर लिया है और मुझे बताएं कि यह कैसा चल रहा है..
- ab ek doosara pain rakhen aur usamen thoda sa tel daalen aur garm hone ke baad chana daal/chana daal aur moongaphalee/moongaphalee daalen aur achchhe se bhoon len. agar yah achchhe se phraee ho jae to ise nikaal kar alag rakh len. - taaje naariyal ke tukade aur sookhee laal mirch ko miksee jaar mein daalakar patala pest/paudar kee tarah pees len. - tindora ke tukade achchhe se bhun jaane par isamen thoda sa namak, mirch paudar aur haldee daalakar bhoon leejie. - ab isamen kuchh karee patte daalakar achchhe se bhoon len. ant mein naariyal paudar daalen aur achchhee tarah milaen. naariyal daalane ke baad sabjee mein namak paryaapt nahin rah jaayega. agar namak paryaapt nahin hai to apane svaad ke anusaar thoda aur namak daalen. - isake baad karee mein bhunee huee chana daal aur moongaphalee ke daane daalakar achchhee tarah mila len. ant mein dhaniye kee pattiyon se gaarnish karen. - isake baad bahut hee svaadisht aur svaasthyavardhak dondaakaaya karee/aaivee laukee karee taiyaar hai. sunishchit karen ki aapane ise taiyaar kar liya hai aur mujhe bataen ki yah kaisa chal raha hai..

Comments